25 जनवरी 2012

११. सर्द मौसम की कहानी

सर्द रातों में लिखी है
अथक श्रम की नव कहानी
कृषक राजा कह रहा है
सुन रही है अवनि रानी
सर्द मौसम की कहानी

आवृत हो मकर पथ पर
’नित्य’ तेजस बादलों में
ध्येय ज्यों लिपटा हुआ हो
कर्म के अंतस पलों में
किन्तु खेतों में फसल सब
मांगती है उष्ण पानी
सर्द मौसम की कहानी

उल्लसित उड़ती पतंगे
नील नभ पर अनिल में
बंधा डोरी से समय की
जीव जीवन अखिल में
पर्वतों की चोटियों पर
बर्फ़ की चादर सुहानी
सर्द मौसम की कहानी

कृषक राजा कह रहा है
सुन रही है अवनि रानी
सर्द मौसम की कहानी

-श्रीकांत मिश्र कांत
कोलकाता से

11 टिप्‍पणियां:

  1. पर्वतों की चोटियों पर धूप की चादर सुहानी!वाह!! सुदर नवगीत ने सुंदर नज़ारा प्रस्तुत कर दिया है। सुंदर नवगीत के लिए बधाई कान्त जी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आवृत हो मकर पथ पर
    ’नित्य’ तेजस बादलों में
    ध्येय ज्यों लिपटा हुआ हो
    कर्म के अंतस पलों में...
    बादलों में लिपटे सूर्य का अनुपम दृश्य दर्शाया है.
    बहुत खूब! बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  3. अवनि रानी को "अथक श्रम की नव कहानी" सुनाते कृषक राजा के माध्यम से जग-जीवन में श्रम और श्रमिक की प्रतिष्ठा का आग्रही, सुन्दर गीत !

    उत्तर देंहटाएं
  4. परमेश्वर फुँकवाल26 जनवरी 2012 को 10:15 am

    कहानी मनमोहक है आ. श्रीकांत जी. बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. आ० कलपना रमानी जी, शारदा मोंगा जी अश्विनी कुमार विष्णु जी, प्रतिभी जी और प्रमेश्वर फुंकवाल जी .. रचना को उसकी सार्थकता तक पहुंचाने के लिये आपका हार्दिक आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. उल्लसित उड़ती पतंगे
    नील नभ पर अनिल में
    बंधा डोरी से समय की
    जीव जीवन अखिल में
    पर्वतों की चोटियों पर
    बर्फ़ की चादर सुहानी
    सर्द मौसम की कहानी
    बहुत सुन्दर
    बधाई
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  7. उत्तम द्विवेदी26 जनवरी 2012 को 7:47 pm

    सुंदर नवगीत के लिए श्रीकांत मिश्र जी को बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  8. आवृत हो मकर पथ पर
    ’नित्य’ तेजस बादलों में
    ध्येय ज्यों लिपटा हुआ हो
    कर्म के अंतस पलों में
    किन्तु खेतों में फसल सब
    मांगती है उष्ण पानी

    .... अच्छा गीत.

    उत्तर देंहटाएं
  9. विमल कुमार हेडा28 जनवरी 2012 को 8:20 am

    सर्द रातों में लिखी है,अथक श्रम की नव कहानी
    कृषक राजा कह रहा है, सुन रही है अवनि रानी
    अति सुन्दर, श्रीकांत जी को बहुत बहुत बधाई
    धन्यवाद
    विमल कुमार हेडा

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।