16 जून 2012

१६. आओ हम धूप वृक्ष काटें

आओ हम
धूप वृक्ष काटें।
इधर–उधर
हलकापन बाँटे।

अमलतास गहरा कर फूले
हवा नीमगाछों पर झूले
चुप हैं गाँव
नगर, आदमी
हमको तुमको सबको भूले।

हर तरफ़ घिरी–घिरी उदासी
आओ हम
मिल–जुल कर छाँटें।

परछाई आ करके सट गई
एक और गोपनता छँट गई
हल्दी के रंग भरे कटोरे
किरन फिर
इधर–उधर उलट गई।
वह पीलेपन की गहराई

लाल–लाल
हाथों से पाटे।
आओ हम धूप वृक्ष काटें।

—माहेश्वर तिवारी
मुरादाबाद

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (17-06-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  2. माहेश्वर जी के इस शानदार नवगीत को पढ़वाने के लिए नवगीत की पाठशाला का आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. 'आओ हम धूप-वृक्ष काटें' - वही कालजयी चिर-परिचित पंक्तियाँ - एक बार फिर मन महमह हो गया| साधुवाद 'अनुभूति' परिवार को माहेश्वर भाई के इस नवगीत से नई पीढ़ी को मुखातिब करने के लिए|

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।