14 सितंबर 2012

५. नदी की धार सी संवेदनाएँ

घट रही है
अब नदी की धार सी
संवेदनाएं

पेड़ कब से
तक रहे पंछी घरों को लौट आयें
और फिर अपनी उड़ानों की खबर
हमको सुनाएँ
अनकहे से
शब्द में फिर कर रही आगाह
क्या सारी दिशाएँ

हाट बस
आडम्बरों के दीखते जिस और जाएँ
रक्तरंजित हो चली है नेह की
सारी ऋचाएँ
रोक दो
जिस ओर से भी आ रही
जहरीली हवाएँ

-रोहित रुसिया

12 टिप्‍पणियां:

  1. पेड़ कब से
    तक रहे पंछी घरों को लौट आयें
    और फिर अपनी उड़ानों की खबर
    हमको सुनाएँ....
    .........बहुत ही अच्छा नवगीत ..कवि को बधाई ..!! सच ,समय कहाँ ले आया है हमें ..!!
    पथ पर टकटकी लगाए अपनों की प्रतीक्षा में मौन आँखें हर दिशा में ढूँढ आतीं हैं ..दूर हुए अपनों को ....!!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. परमेश्वर फुंकवाल15 सितंबर 2012 को 2:11 pm

    बहुत संक्षिप्त किन्तु बहुत प्रभावी नवगीत. बधाई रोहित जी को.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सम्वेदनाओं पर केन्द्रित सुन्दर नवगीत रोहित रूसिया जी का.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सम्वेदनाओं पर केन्द्रित सुन्दर नवगीत रोहित रूसिया जी का.

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर नवगीत के लिए हार्दिक शुभकामनाएं ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. छूटते रिश्ते और रीती होती नेह की गागर की ओर इंगित करती एक श्रेष्ठ रचना | बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  7. हाट अब आडंबरों के दीखते, जिस ओर जाएँ ...सुंदर नवगीत...

    उत्तर देंहटाएं
  8. रोहित रूसिया22 सितंबर 2012 को 10:33 pm

    नवगीत आपसभी ने पसंद किया , बहुत धन्यवाद.
    ------------ रोहित रूसिया

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।