26 सितंबर 2012

१७. जिंदगी नचा रही


दौडती जा रही भागती जा रही
जिंदगी हाथ से छूटती जा रही


छूट गए खेत गाँव
टिके नहीं कहीं पाँव
ढूँढते ही रह गए
तोष में विलीन छाँव
हठी-नटी तृषा मृगी
कितना नचा रही


अनबुझी प्यास के
हाट का उधार है
सूद रोज बढ़ रहा
आर है न पार है
चैन की हवाओं को
भूलती जा रही


समय नहीं पोंछ ले
रुक के कोई आँख नम
हाथ थाम चल पड़े
रुक रहे जो साँस-दम
बाँट ले संवेदना जो,
हाथ छोड़ जा रही


ठहर जरा देख ले
चाँद डूबते हुए
और आसमान पर
सूर्य जूझते हुए
झील की तरंग में
चाँदनी नहा रही
तू क्यों ना देख पा रही ?

-शशि पाधा
यू.एस.ए

21 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर नवगीत है शशि पाधा जी का, उन्हें बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद धर्मेन्द्र जी |

      हटाएं
  2. सुंदर ...सकारात्मक भाव ॥बहुत अच्छी रचना ....!!
    शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अनुपमा जी, आपको यह नवगीत अच्छा लगा | धन्यवाद

      हटाएं
  3. अनबुझी प्यास के
    हाट का उधार है
    सूद रोज बढ़ रहा
    आर है न पार है
    चैन की हवाओं को
    भूलती जा रही सुन्दर सार्थक पंक्तियाँ, बधाई शशि जी सुन्दर नवगीत के लिए

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुवर्णा जी , जीवन की भागदौड में कोई कर्म तो सार्थक हो , यही सोच कर लिखा था | आपको धन्यवाद |

      हटाएं
  4. ...झील की तरंग में
    चाँदनी नहा रही...

    नवगीत बहुत सुंदर.

    शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शारदा जी, धन्यवाद | आपको प्रकृति से विशेष लागाव है | मैं यह जानती हूँ |

      हटाएं
  5. विमल कुमार हेड़ा।27 सितंबर 2012 को 8:30 am

    छूट गए खेत गाँव, टिके नहीं कहीं पाँव,
    ढूँढते ही रह गए, तोष में विलीन छाँव,
    बहुत सुन्दर भाव लिये एक अच्छी रचना के लिये शशि पाधा जी को बहुत बहुत बधाई
    विमल कुमार हेड़ा।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. विमल कुमार जी,

      हार्दिक धन्यवाद |

      हटाएं
  6. समय नहीं पोंछ ले
    रुक के कोई आँख नम
    हाथ थाम चल पड़े
    रुक रहे जो साँस-दम
    बाँट ले संवेदना जो,
    हाथ छोड़ जा रही
    ..............बहुत सुंदर नवगीत .
    बहुत बधाई शशि दी

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. गीता जी, आपको मेरी रचना भायी | धन्यवाद |

      हटाएं
  7. परमेश्वर फुंकवाल27 सितंबर 2012 को 5:28 pm

    "अनबुझी प्यास के
    हाट का उधार है
    सूद रोज बढ़ रहा
    आर है न पार है" बहुत सुन्दर चित्रण है जीवन की भागमभाग का. सुन्दर नवगीत. आ शशी पाधा जी को बहुत बहुत बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मुख्य भाव की पंक्तियाँ रेखांकित करने के लिए धन्यवाद आपका |

      हटाएं
  8. समय नहीं पोंछ ले
    रुक के कोई आँख नम
    हाथ थाम चल पड़े
    रुक रहे जो साँस-दम
    बाँट ले संवेदना जो,
    हाथ छोड़ जा रही
    बहुत सुंदर भाव पूर्ण नवगीत। बधाई शशि जी

    उत्तर देंहटाएं
  9. विडंबना का क्या सुन्दर चित्रण है.

    दौडती जा रही भागती जा रही
    जिंदगी हाथ से छूटती जा रही.

    खोने की कसक और बढती त्रश्न्गी का जवाब नही.

    खुशनुमा पलों को संजोने की अभिलाषा:
    ठहर जरा देख ले
    चाँद डूबते हुए
    और आसमान पर
    सूर्य जूझते हुए
    झील की तरंग में
    चाँदनी नहा रही
    तू क्यों ना देख पा रही ?

    एक बढ़िया नवगीत आ० शशि पाधा जी,.बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  10. अनिल वर्मा, लखनऊ.30 सितंबर 2012 को 8:46 pm

    कमाल की रवानी है इस नवगीत में. सुन्दर शब्द संयोजन एवं भावाभिव्यक्ति. रससिक्त करती रचना के लिये बधाई शशि पाधा जी.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही सुन्दर भावपूर्ण नवगीत के लिए बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद सुरेंदर पाल जी |

      हटाएं
  12. बहुत ही सुन्दर भावपूर्ण नवगीत के लिए बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।