11 मार्च 2013

१. रंग लिये फागुन

आया फिर
आँगन में रंग लिए फागुन

टेसू हर डाल पर फगुआ सुनाये
पात-पात सुन-सुन के
झूम-झूम जाए

पंछी गुनगुनाने लगे
प्यार भरी धुन

राह तके बालम की रंग लिए गोरी
छोडूँ ना साजन को
खेलूँगी होरी

बजने बेचैन दिखी
पायल छुन-छुन

शिकवे सब, भूल चली मस्तों की टोली
हर दिल को रिझा रही
रंग भरी बोली

प्रीति में खो जाएँ,
आओ हम - तुम

- रोहित रूसिया ( छिन्दवाड़ा )

13 टिप्‍पणियां:

  1. राह तके बालम की रंग लिए गोरी
    छोडूँ ना साजन को
    खेलूँगी होरी

    बजने बेचैन दिखी
    पायल छुन-छुन .......

    बहुत सुन्दर गीत रोहित जी .....

    उत्तर देंहटाएं
  2. राह तके बालम की रंग लिए गोरी
    छोडूँ ना साजन को
    खेलूँगी होरी

    बजने बेचैन दिखी
    पायल छुन-छुन ......
    खूबसूरत गीत ...............

    उत्तर देंहटाएं
  3. रोहित जी यहाँ -बजने बेचैन दिखी-वाक्यांश को ठीक कीजिए। यहाँ अपेक्षित अर्थ स्पष्ट नही हो पा रहा है।बाकी गीत सुन्दर है मौलिक भी है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. गोवर्धन यादव12 मार्च 2013 को 3:12 pm

    फ़ागुन पर लिखी कविता पढकर मन गदगद हो गया.

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर गीत के साथ होली का आगाज़. टेसू हर डाल पर फगुआ सुनाये
    पात-पात सुन-सुन के
    झूम-झूम जाए

    पंछी गुनगुनाने लगे
    प्यार भरी धुन.......
    सुन्दर पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर नवगीत के लिए रोहित रुसिया जी को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर नवगीत आ0 रूसिया जी।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर नवगीत आ0 रूसिया जी।

    उत्तर देंहटाएं
  9. रंगों में भीगा हुआ सुंदर और प्यारा गीत....

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।