20 अक्तूबर 2012

१. दीप जलने दो


आँधियाँ गरजें
फटें बादल मगर फिर भी
दीप जलने दो !

गर्द में डूबा हुआ मौसम
भयावह धुँधली दिशाएँ हैं
भ्रम सिरजता झूठ है यह सब
सत्य रंगों की छटाएँ हैं

अटपटे ढँग हैं
तमिस्रा के रहें फिर भी
दीप जलने दो !

ग्रहण में घिरकर मिटी कब है
जुगनुओं की देह की पूनम
जीत का जयघोष करते हैं
हरसिंगारों के धवल परचम

राहु-केतु प्रपंच हैं
रह निडर तुम फिर भी
दीप जलने दो !

मत भुलाओ देवताओं के
हो सदा ही से दुलारे तुम
चाहे जो अवतार ले ईश्वर
हो उसे ख़ुद से भी प्यारे तुम

दे झकोले युगनदी
उफनें भँवर फिर भी
दीप जलने दो !!

-- अश्विनी कुमार विष्णु

9 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर गीत से श्रीगणेश हुआ है। अश्विनी जी, बधाई आपको

    उत्तर देंहटाएं
  2. राहु-केतु प्रपंच हैं
    रह निडर तुम फिर भी
    दीप जलने दो !...वाकई बहुत अच्छी बात

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर गीत...

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. अश्विनी कुमार विष्णु की यह रचना,मेरी राय में, नवगीत की दहलीज ही छू पाई है| नवगीत में जो सहज प्रवाह होना चाहिए, वह इसमें पूरी तरह नहीं आ पाया है| हाँ, अंतिम पदांत 'दे झकोले युगनदी / उफनें भँवर फिर भी / दीप जलने दो' पूरी तरह नवगीत की भंगिमा का है| वैसे यह गीत अपने-आप में अच्छा है| इस गीत के समग्र प्रभाव के लिए विष्णु जी को मेरा हार्दिक अभिनन्दन!

    उत्तर देंहटाएं
  5. दे झकोले युगनदी
    उफने भँवर फिर भी
    दीप जलने दो ।
    सुन्दर नवगीत के लिए अश्विनी कुमार विष्णु को बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर नवगीत के लिए अश्विनी जी को बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. कृष्ण नन्दन मौर्य25 अक्तूबर 2012 को 6:15 pm

    सुंदर गीत बधाई आपको अश्विनी जी

    उत्तर देंहटाएं
  8. अँधेरे से लडने की प्ररणा देता है यह नवगीत। बधाई विष्णु जी

    उत्तर देंहटाएं
  9. आँधियाँ गरजें
    फटें बादल मगर फिर भी
    दीप जलने दो !

    दीप जलने दो। सच भाई अश्विनी जी बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है। कृपया देवनागरी लिपि का ही प्रयोग करें।